ज़िन्दगी

बीते हुए कल की मुश्किलों से लड़कर, कभी उनसे जीतकर, तो कभी हारकर , रोज़ सुबह जब उठता हूँ, तब लगता है, की ज़िन्दगी कितनी अच्छी हैअपनी कल्पनाओं में खोये लेखकों की रचनायें पढ़कर, कभी उन पर हंसकर, कभी खुद पर रोकर, जब आइना देखता हूँ, तो लगता है, की ज़िन्दगी कितनी सच्ची हैनाकामियों से […]

Advertisement

Read more "ज़िन्दगी"