दौड़

ज़िन्दगी की दौड़ में
भागते रहो तो क्यों?
ये भला कि वो बुरा
सोचते रहो तो क्यों?

Read more "दौड़"