फिर वही गाना

आज मन कहने लगा कुछ गुनगुनाओ
तो फिर वोही गाना गुनगुना लिया |
तुम्हारी बातों ने फिर छेड दिए कुछ साज़
तो आज फिर दिल ने मुस्कुरा दिया |

 जब आज सूरज को ढलते देखा
तो फिर तुम्हारी याद आई
याद आई वो सारी शामें जिन्हें
तुम्हारे मासूम-से सवालों में डूबा दिया |

आज मन कहने लगा कुछ गुनगुनाओ
तो फिर वोही गाना गुनगुना लिया |

काले बादलों को देखकर मन उदास हुआ
तो मैंने आखें बंद कर ली
बंद आखों में जब तुम्हारा चेहरा आया
तो कुछ  बूंदों ने मेरे चेहरे को भिगा दिया |

आज मन कहने लगा कुछ गुनगुनाओ
तो फिर वोही गाना गुनगुना लिया |

सुबह की धूप जो तुम्हारे बालों से छन कर आती थी
जब सीधे आज आखों पर गिरी तो अच्छा न लगा
फिर तुम्हारे साथ  का एहसास हुआ
तो हँसते हुए नए दिन को गले लगा लिया |

आज मन कहने लगा कुछ गुनगुनाओ
तो फिर वोही गाना गुनगुना लिया |

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s